Wednesday, August 21, 2019

SECOND KILLING OF BHAGAT SINGH & SUBHASH CHANDRA BOSE BY THE HINDUTVA GANG


SECOND KILLING OF BHAGAT SINGH & SUBHASH CHANDRA BOSE BY THE HINDUTVA GANG

In a shocking development the student wing of the RSS put the busts of martyrs Bhagat Singh and Subhash Chandra Bose with the Savarkar's on one pedestal at the University of Delhi late in the night on August 20, 2019. This clubbing of busts of Bhagat Singh and Netaji with VD Savarkar is tantamount to 2nd killing of the 2 great martyrs who laid down their lives for the freedom of the country. Bhagat Singh sacrificed his life for a socialist-democratic-secular Republic and Netaji raised Azad Hind Fauj (INA) consisting of people of all religions and regions for the armed liberation of India. The contemporary documents are witness to the fact that while Bhagat Singh and Netaji fought against the repressive British rule and the two-nation theory, as Savarkar brazenly sided with the British rulers and the Muslim League in order to defeat the all-inclusive freedom struggle.

'Veer' Savarkar Submitted FIVE Mercy Petitions & Got Remission of 35+ years

The most shameful and shocking part of this combination of busts is that whereas Bhagat Singh and Netaji never subjected to the diktats of the colonial masters, never repented and never sought mercy this Hindutva 'Veer' submitted in all five mercy petitions in 1911, 1913, 1914, 1918 and 1920.[i] This 'Veer' though sentenced for 50 years (in 1910-1911), was in the Cellular Jail for less than 10 years and was finally released in 1924 from Yerwada Jail in Maharashtra. Thus he was able to secure remission of more than 35 years. There were hundreds of other revolutionaries who in the Cellular Jail and other jails remained incarcerated for full terms of their convictions. There were, of course, martyrs like Bhagat Singh, Chandershekhar Azad, Ram Prasad Bismil, Ashfaqullah Khan, Sukhdev, Rajguru and Roshan Singh who neither begged for mercy nor were shown any leniency. There was also large number of Ghadarite revolutionaries and Bengal revolutionaries who refused "to plead with the British authorities for mercy. Nor did they agree to give up their struggle for India's liberty in exchange of their own personal liberty."[ii]

How Savarkar Backstabbed Netaji Subhash Chandra Bose

When Netaji during World War II was trying to secure foreign support for liberation of the country and trying to organise a military attack on the northeast of the country which finally culminated in the formation of  ‘Azad Hind Fauj’ (Indian National Army), it was Savarkar who offered full military cooperation to the British masters. While addressing 23rd session of Hindu Mahasabha at Bhagalpur in 1941, he said:
"The war which has now reached our shores directly constitutes at once a danger and an opportunity which both render it imperative that the militarization movement musts be intensified and every branch of the Hindu Mahasabha in every town and village must actively engage itself in rousing the Hindu people to join the army, navy, the aerial forces and the different war-craft manufactories."[iii]
It was Savarkar's direct call for Hindus to join the British armed forces. To what extent Savarkar was willing to help the British would be clear by the following words of his:
"So far as India’s defence is concerned, Hindudom must ally unhesitatingly, in a spirit of responsive co-operation with the war effort of the Indian government in so far as it is consistent with the Hindu interests…Again it must be noted that Japan’s entry into the war has exposed us directly and immediately to the attack by Britain’s enemies. Consequently, whether we like it or not, we shall have to defend our own hearth and home against the ravages of the war and this can only be done by intensifying the government’s war effort to defend India. Hindu Mahasabhaits must, therefore, rouse Hindus especially in the provinces of Bengal and Assam as effectively as possible to enter the military forces of all arms without losing a single minute."[iv]

Savarkar’s total support to the British war efforts when leaders like Subhash Chandra Bose were trying to chalk out a strategy to throw out the British rule from India through armed struggle was the result of a well-thought-out Hindutva design. It was in Madura (22nd session of the Hindu Mahasabha, 1940) that he made his choice clear. His support to the British rested on the logic that “it is altogether improbable that in this war England will be defeated so disastrously as to get compelled to hand over her Indian Empire, lock, stock and barrel into German hands”[v] thus believing in the invincibility of the British Empire.

It was not as if Savarkar was unaware of the strong resentment which was brewing in the ranks of common Indians against such an approach. He brushed aside any criticism of Hindu Mahasabha’s decision of co-operating with the British in war efforts as,
"political folly into which the Indian public is accustomed to indulge in thinking that because Indian interests are opposed to the British interests in general, any step in which we join hands with the British government must necessarily be an act of surrender, anti-national, of playing into the British hands and that co-operation with the British government in any case and under all circumstances is unpatriotic and condemnable."[vi]

Savarkar spent the next few years in organizing recruitment camps for the British armed forces which were to slaughter the cadres of INA in different parts of North-East later. The Madura conference of Hindu Mahasabha concluded with the adoption of an ‘immediate programme’ which stressed “to secure entry for as many Hindus recruits as possible into army, navy and the air forces”.[vii] He also informed them that through the efforts of Hindu Mahasabha alone, one lakh Hindu’s were recruited in the British armed forces in one year. It is to be noted that during this period RSS continued inviting Savarkar to address the RSS youth gatherings for motivating the latter to recruit into the British armed forces.
Hindu Mahasabha under Savarkar’s leadership organised high-level Boards in different regions of the country to help the Hindus seeking recruitment in the British armed forces. We come to know through the following words of Savarkar that these Boards were in direct contact with the British government. Savarkar informed the cadres,
"To deal with the difficulties and the grievances which the Hindu recruits to the Army find from time to time, a Central Northern Hindu Militarization Board has been formed by the Hindu Mahasabha at Delhi with Mr. Ganpat Rai, B.A., L.L.B Advocate, 51, Panchkuin Road, New Delhi, as convener. A Central Southern Hindu Militarization Board is also formed under the Chairmanship or Mr. L.B. Bhopatkar, M.A., LL.B., President Maharashtra Provincial Hindusabha, Sadashiv Peth Poona. All complaints or applications for information etc. should be addressed by those Hindus who want to enter the forces or have already enlisted themselves in them, to the above addresses. Sir Jwala Prasad Shrivastav; Barrister Jamnadasji Mehta, Bombay; Mr.
V.V. Kalikar, M.L.C., Nagpur and other members on the National Defence Council or the Advisory War Committee will certainly try their best to get these difficulties removed so far as possible when they are forwarded by these Militarization Boards on to them."[viii]

This clearly shows that the British Government had accommodated leaders of the Hindu Mahasabha on its official war committees. Those who declare Savarkar as a great patriot and freedom fighter must bow their heads in shame when they read the following instruction from Savarkar to those Hindus who were to join the British forces:
"One point however must be noted in this connection as emphatically as possible in our own interest that those Hindus who join the Indian [read the British] Forces should be perfectly amenable and obedient to the military discipline and order which may prevail there provided always that the latter do not deliberately aim to humiliate Hindu Honour."[ix]
The British Government was in regular touch with Savarkar so far as the organisation of its highest war bodies was concerned. It included individuals whose names were proposed by Savarkar. This is made clear from the following thanksgiving telegram Savarkar sent to the British government. Bhide’s volume tells us that,
"The following Telegram was sent by Barrister V.D. Savarker [sic], the President of the Hindu Mahasabha to (1) General Wavell, the Commander in-Chief; and (2) the Viceroy of India on the 18th instant (July 18, 1941).
YOUR EXCELLENCY’S ANNOUNCEMENT DEFENCE COMMITTEE WITH ITS PERSONNEL IS WELCOME. HINDUMAHASABHA VIEWS WITH SPECIAL SATISFACTION APPOINTMENT OF MESSERS KALIKAR AND JAMNADAS MEHTA."[x] [As per the original text.]
It is important to note here that even the Muslim League, sub-serving the interests of the British rulers, refused to join Defence Committees established by the government as done by Savarkar.
Savarkar Believed In Two-Nation Theory & Formed Coalition Governments with the Muslim League
Savarkar openly opposed the dream of Bhagat Singh and Netaji of a free democratic-secular India. On the contrary he demanded an exclusive Hindu nation and chalked out his Two-nation theory long before the Muslim League. While addressing the 19th Session of Hindu Mahasabha at Ahmedabad in 1937, he said:

"As it is, there are two antagonistic nations living side by side in India. Several infantile politicians commit the serious mistake in supposing that India is already welded into a harmonious nation, or that it could be welded thus for the mere wish to do so. These our well-meaning but unthinking friends take their dreams for realities. That is why they are impatient of communal tangles and attribute them to communal organizations. But the solid fact is that the so-called communal questions are but a legacy handed down to us by centuries of cultural, religious and national antagonism between the Hindus and Moslems... Let us bravely face unpleasant facts as they are. India cannot be assumed today to be a Unitarian and homogenous nation, but on the contrary there are two nations in the main: the Hindus and the Moslems, in India."[xi]
The fact should not be missed that Muslim League passed its Pakistan resolution in 1940 only. Savarkar, the great philosopher and guide of RSS, not only propagated Two-Nation Theory long before but entered into alliances with Muslim League in order to break ‘Quit India Movement’. While delivering Presidential address to the 24th session of Hindu Mahasabha at Cawnpore (Kanpur) in 1942, he defended hobnobbing with the Muslim League in the following words,

"In practical politics also the Mahasabha knows that we must advance through reasonable compromises. Witness the fact that only recently in Sind, the Sind-Hindu-Sabha on invitation had taken the responsibility of joining hands with the League itself in running coalition Government. The case of Bengal is well known. Wild Leaguers whom even the Congress with all its submissiveness could not placate grew quite reasonably compromising and socialable as soon as they came in contact with the Hindu Mahasabha and the Coalition Government, under the premiership of Mr. Fazlul Huq and the able lead of our esteemed Mahasabha leader Dr. Syama Prasad Mookerji, functioned successfully for a year or so to the benefit of both the communities. Moreover further events also proved demonstratively that the Hindu Mahasabhaits endeavoured to capture the centres of political power only in the public interests and not for the leaves and fishes of the office."[xii]
It is to be noted that in this coalition government Syama Prasad Mukherjee, second in command of the Hindu Mahasabha was Deputy Premier. Hindu Mahasabha and Muslim League also formed a coalition government in NWFP also.
With these irrefutable facts from history, even available in the Hindutva organizations' archives, the appearance of Savarkar bust with the great martyrs only means second killing of the latter.


Shamsul Islam
August 21, 2019
Link for some of S. Islam's writings in English, Hindi, Urdu, Marathi, Malayalam, Kannada, Bengali, Punjabi, Gujarati and video interviews/debates:
Facebook: shamsul
Twitter: @shamsforjustice
http://shamsforpeace.blogspot.com/





[i] For texts of Savarkar's mercy petitions see the following link:
https://countercurrents.org/2019/05/05/mercy-petitions-of-hindutva-guru-veer-brave-savarkar/

[ii] Manini Chatterjee, 'The Kala Pani story' The Indian Express, September 21, 2004.

[iii]Cited in Savarkar, V. D., Samagra Savarkar Wangmaya: Hindu Rashtra Darshan, vol. 6, Maharashtra Prantik Hindusabha, Poona, 1963, pp. 460-61.
[iv]Ibid., p. 460.
[v]Ibid., p. 419.
[vi]Ibid., p. 428.
[vii]Ibid., p. 439.
[viii]Ibid., p. xxvii.
[ix]Ibid., p. xxviii.
[x]Ibid, p. 451.
[xi] Samagar Savarkar Wangmaya (Collected Works of Savarkar), Hindu Mahasabha,  Poona, 1963, p.296
[xii] Ibid, pp. 479-480, Hindu Mahasabha and Muslim League also ran a coalition government in North-Western Frontier Province.

Thursday, August 15, 2019

WILL ANYONE EXPLAIN WHY RAPISTS ARE PATRONIZED BY THE BJP-RSS LEADERS GENERALLY?


WILL ANYONE EXPLAIN WHY RAPISTS ARE PATRONIZED BY THE BJP-RSS LEADERS GENERALLY?
Father-son duo babas (Asaram Bapu & his son Narain Swamy) facing charges of rapes of innocent girls had Subramanian Swamy, a senior BJP-RSS ideologue as the main defence counsel!
Sirsa baba Gurmeet Singh facing rape/murder charges was patronized by many Haryana BJP-RSS leaders!
In Kathua rape/murder case BJP-RSS leaders held demonstrations in defence of the murderers and rapist!
Kuldeep Senger, a prominent BJP leader, alleged rapist/murderer is expelled only when the Supreme Court takes action. No action was taken against this sadist despite more than 30 written communications by the rape victim. Recently elected BJP Lok Sabha MP, Sakshi went to thank him in jail for his contribution in securing victory for Sakshi!
https://timesofindia.indiatimes.com/india/unnao-rape-case-bjp-expels-accused-kuldeep-sengar/articleshow/70481390.cms

अंग्रेज़ों भारत छोड़ो आंदोलन 1942 और हिंदुत्व टोली: एक ग़द्दारी-भरी दास्तान


अंग्रेज़ों भारत छोड़ो आंदोलन 1942 और हिंदुत्व टोली: एक ग़द्दारी-भरी दास्तान
इस 9 अगस्त 2018 को भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के एक अहम मील के पत्थर, ऐतिहासिक ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ को 76 साल पूरे हो जायेंगे। 7 अगस्त 1942 को अखिल भारतीय कांग्रेस समिति ने बम्बई में अपनी बैठक में एक क्रांतिकारी प्रस्ताव पारित किया जिसमें अंग्रेज शासकों से तुरंत भारत छोड़ने की मांग की गयी थी। कांग्रेस का यह मानना था कि अंग्रेज सरकार को भारत की जनता को विश्वास में लिए बिना किसी भी जंग में भारत को झोंकने का नैतिक और कानूनी अधिकार नहीं है। अंग्रेजों से भारत तुरंत छोड़ने का यह प्रस्ताव कांग्रेस द्वारा एक ऐसे नाजुक समय में लाया गया था जब दूसरे विश्वयुद्ध के चलते जापानी सेनाएं भारत के पूर्वी तट तक पहुंच चुकी थी और कांग्रेस ने अंग्रेज शासकों द्वारा सुझाई ‘क्रिप्स योजना’ को खारिज कर दिया था। ‘अंग्रेजो भारत छोड़ो’ प्रस्ताव के साथ-साथ कांग्रेस ने गांधी जी को इस आंदोलन का सर्वेसर्वा नियुक्त किया और देश के आम लोगों से आह्वान किया कि वे हिंदू-मुसलमान का भेद त्याग कर सिर्फ हिदुस्तानी के तौर पर अंग्रेजी साम्राज्यवाद से लड़ने के लिए एक हो जाएं। अंग्रेज शासन से लोहा लेने के लिए स्वयं गांधीजी ने ‘करो या मरो’ ब्रह्म वाक्य सुझाया और सरकार एवं सत्ता से पूर्ण असहयोग करने का आह्वान किया।
'अंग्रेज़ों भारत छोड़ो आंदोलन' के दौरान देश-भक्त हिन्दुस्तानियों की क़ुर्बानियां
भारत छोड़ो आंदोलन की घोषणा के साथ ही पूरे देश में क्रांति की एक लहर दौड़ गयी। अगले कुछ महीनों में देश के लगभग हर भाग में अंग्रेज सरकार के विरुद्ध आम लोगों ने जिस तरह लोहा लिया उससे 1857 के भारतीय जनता के पहले मुक्ति संग्राम की यादें ताजा हो गईं। 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन ने इस सच्चाई को एक बार फिर रेखांकित किया कि भारत की आम जनता किसी भी कुर्बानी से पीछे नहीं हटती है। अंग्रेज शासकों ने दमन करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। 9 अगस्त की सुबह से ही पूरा देश एक फौजी छावनी में बदल दिया गया। गांधीजी समेत कांग्रेस के बड़े नेताओं को तो गिरफ्तार किया ही गया दूरदराज के इलाकों में भी कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को भयानक यातनाएं दी गईं।
सरकारी दमन और हिंसा का ऐसा तांडव देश के लोगों ने झेला जिसके उदाहरण कम ही मिलते हैं। स्वयं सरकारी आंकड़ों के अनुसार पुलिस और सेना द्वारा सात सौ से भी ज्यादा जगह गोलाबारी की गई जिसमें ग्यारह सौ से भी ज्यादा लोग शहीद हो गए। पुलिस और सेना ने आतंक मचाने के लिए बलात्कार और कोड़े लगाने का बड़े पैमाने पर प्रयोग किया। भारत में किसी भी सरकार द्वारा इन कथकंडों का इस तरह का संयोजित प्रयोग 1857 के बाद शायद पहली बार ही किया गया था। 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन को ‘अगस्त क्रांति’ भी कहा जाता है। अंग्रेज सरकार के भयानक बर्बर और अमानवीय दमन के बावजूद देश के आम हिंदू मुसलमानों और अन्य धर्म के लोगों ने हौसला नहीं खोया और सरकार को मुंहतोड़ जवाब दिया। यह आंदोलन ‘अगस्त क्रांति’ क्यों कहलाता है इसका अंदाजा उन सरकारी आंकड़ों को जानकर लगाया जा सकता है जो जनता की इस आंदोलन में कार्यवाहियों का ब्योरा देते हैं। सरकारी आंकड़ों के अनुसार 208 पुलिस थानों, 1275 सरकारी दफ्तरों, 382 रेलवे स्टेशनों और 945 डाकघरों को जनता द्वारा नष्ट कर दिया गया। जनता द्वारा हिंसा बेकाबू होने के पीछे मुख्य कारण यह था कि पूरे देश में कांग्रेसी नेतृत्व को जेलों में डाल दिया गया था और कांग्रेस संगठन को हर स्तर पर गैर कानूनी घोषित कर दिया गया था। कांग्रेसी नेतृत्व के अभाव में अराजकता का होना बहुत गैर स्वाभाविक नहीं था। यह सच है कि नेतृत्व का एक बहुत छोटा हिस्सा गुप्त रूप से काम कर रहा था परंतु आमतौर पर इस आंदोलन का स्वरूप स्वतः स्फूर्त बना रहा।
यह जानकर किसी को भी आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि दमनकारी अंग्रेज सरकार का इस आंदोलन के दरम्यान जिन तत्वों और संगठनों ने प्यादों के तौर पर काम किया वे हिंदू और इस्लामी राष्ट्र के झंडे उठाए हुए थे। ये सच है कि भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने भी भारत छोड़ो आंदोलन से अलग रहने का निर्णय लिया था। इसके बारे में सबको जानकारी है। लेकिन आज के देशभक्तों के नेताओं ने किस तरह से न केवल इस आंदोलन से अलग रहने का फैसला किया था बल्कि इसको दबाने में गोरी सरकार की सीधी सहायता की थी जिस बारे में बहुत कम जानकारी है।
मुस्लिम लीग के नेता मोहम्मद अली जिन्नाह ने कांग्रेसी घोषणा की प्रतिक्रिया में अंग्रेज सरकार को आश्वासन देते हुए कहा, "कांग्रेस की असहयोग की धमकी दरअसल श्री गांधी और उनकी हिंदू कांग्रेस सरकार अंग्रेज सरकार को ब्लैकमेल करने की है। सरकार को इन गीदड़भभकियों में नहीं आना चाहिए।" मुस्लिम लीग और उनके नेता अंग्रेजी सरकार के बर्बर दमन पर न केवल पूर्णरूप से खामोश रहे बल्कि प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अंग्रेज सरकार का सहयोग करते रहे। मुस्लिम लीग इससे कुछ भिन्न करे इसकी उम्मीद भी नहीं की जा सकती थी क्योंकि वह सरकार और कांग्रेस के बीच इस भिड़ंत के चलते अपना उल्लू सीध करना चाहती थी। उसे उम्मीद थी कि उसकी सेवाओं के चलते अंग्रेज शासक उसे पाकिस्तान का तोहफा जरूर दिला देंगे।
भारत छोड़ो आंदोलन के खिलाफ सावरकर के नेतृत्व में हिन्दू महासभा ने खुले-आम दमनकारी अंग्रेज़ शासकों की मदद की घोषणा की 
लेकिन सबसे शर्मनाक भूमिका हिंदू महासभा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की रही जो भारत माता और हिंदू राष्ट्रवाद का बखान करते नहीं थकते थे। भारत छोड़ो आंदोलन पर अंग्रेजी शासकों के दमन का कहर बरपा था और देशभक्त लोग सरकारी संस्थाओं को छोड़कर बाहर आ रहे थे; इनमें बड़ी संख्या उन नौजवान छात्र-छात्राओं की थी जो कांग्रेस के आह्वान पर सरकारी शिक्षा संस्थानों को त्याग कर यानी अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़कर बाहर आ गये थे। लेकिन यह हिंदू महासभा ही थी जिसने अंग्रेज सरकार के साथ खुले सहयोग की घोषणा की। हिंदू महासभा के सर्वेसर्वा वीर सावरकर ने 1942 में कानपुर में अपनी इस नीति का खुलासा करते हुए कहा,
"सरकारी प्रतिबंध के तहत जैसे ही कांग्रेस एक खुले संगठन के तौर पर राजनीतिक मैदान से हटा दी गयी है तो अब राष्ट्रीय कार्यवाहियों के संचालन के लिए केवल हिंदू महासभा ही मैदान में रह गयी है... हिंदू महासभा के मतानुसार व्यावहारिक राजनीति का मुख्य सिद्धांत अंग्रेज सरकार के साथ संवेदनपूर्ण सहयोग की नीति है। जिसके अंतर्गत बिना किसी शर्त के अंग्रेजों के साथ सहयोग जिसमें हथियार बंद प्रतिरोध भी शामिल है।"

भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान हिन्दू महासभा और मुस्लिम लीग ने मिलकर सरकारें चलाईं
कांग्रेस का भारत छोड़ो आंदोलन दरअसल सरकार और मुस्लिम लीग के बीच देश के बंटवारे के लिए चल रही बातचीत को भी चेतावनी देना था। इस उद्देश्य से कांग्रेस ने सरकार और मुस्लिम लीग के साथ किसी भी तरह के सहयोग का बहिष्कार किया हुआ था। लेकिन इसी समय हिंदू महासभा ने मुस्लिम लीग के साथ सरकारें चलाने का निर्णय लिया। ‘वीर‘ सावरकर जो अंग्रेज सरकार की खिदमत में 5 माफी-नामे लिखने के बाद दी गयी सजा का केवल एक तिहाई हिस्सा भोगने के बाद हिन्दू महासभा के सर्वोच्च नेता थे, ने इस शर्मनाक रिश्ते के बारे में सफाई देते हुए 1942 में कहा,
"व्यावहारिक राजनीति में भी हिंदू महासभा जानती है कि बुद्धिसम्मत समझौतों के जरिए आगे बढ़ना चाहिए। यहां सिंध हिंदू महासभा ने निमंत्रण के बाद मुस्लिम लीग के साथ मिली जुली सरकार चलाने की जिम्मेदारी ली। बंगाल का उदाहरण भी सबको पता है। उद्दंड लीगी जिन्हें कांग्रेस अपनी तमाम आत्मसमर्पणशीलता के बावजूद खुश नहीं रख सकी, हिंदू महासभा के साथ संपर्क में आने के बाद काफी तर्कसंगत समझौतों और सामाजिक व्यवहार के लिए तैयार हो गये। और वहां की मिली-जुली सरकार मिस्टर फजलुल हक को प्रधानमंत्रित्व और महासभा के काबिल व मान्य नेता श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नेतृत्व में दोनों समुदाय के फायदे के लिए एक साल तक सफलतापूर्वक चली।"
यहाँ यह याद रखना जरूरी है कि बंगाल और सिंध के अलावा NWFP में भी हिन्दू महासभा और मुस्लिम लीग की गांठ-बंधन सरकार 1942 में सत्तासीन हुई।

श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने बंगाल में मुस्लिम लीग के नेतृत्व वाली सरकार में ग्रह और उप-मुख्य मंत्री रहते हुवे 'अंग्रेज़ों भारत छोड़ो आंदोलन' को दबाने के लिए गोर आक़ाओं को उपाए सुझाए
हिन्दू महासभा के नेता नंबर दो श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने तो हद ही करदी।  आरएसएस के प्यारे इस महँ हिन्दू राष्ट्रवादी ने बंगाल में मुस्लिम लीग के मंत्री मंडल में ग्रह मंत्री और उप-मुख्यमंत्री  हुवे अनेक पत्रों में बंगाल के ज़ालिम अँगरेज़ गवर्नर को दमन के वे तरीक़े सुझाये जिन से बंगाल में भारत छोड़ो आंदोलन को पूरे तौर पर दबाया जा सकता था। मुखर्जी ने अँगरेज़ शासकों को भरोसा दिलाया कि  कांग्रेस अँगरेज़ शासन को देश के लिया अभशाप मानती है लेकिंग उनकी मुस्लिम लीग और हिन्दू महासभा की मिलीजुली सरकार इसे देश के लिए वरदान मानती है।

अगर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का रवैया 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के प्रति जानना हो तो इसके दार्शनिक एम.एस. गोलवलकर के इस शर्मनाक वक्तव्य को पढ़ना काफी होगा - "1942 में भी अनेकों के मन में तीव्र आंदोलन था। इस समय भी संघ का नित्य कार्य चलता रहा। प्रत्यक्ष रूप से संघ ने कुछ न करने का संकल्प लिया।"
इस तरह स्वयं गोलवलकर, जिन्हें गुरुजी भी कहा जाता है, से हमें यह तो पता चल जाता है कि संघ ने आंदोलन के पक्ष में परोक्ष रूप से किसी भी तरह की हिस्सेदारी नहीं की। लेकिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के किसी भी प्रकाशन या दस्तावेज या स्वयं गुरुजी के किसी दस्तावेज से आज तक यह पता नहीं लग पाया है कि संघ ने अप्रत्यक्ष रूप से भारत छोड़ो आंदोलन में किस तरह की हिस्सेदारी की थी। गुरुजी का यह कहना कि भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का रोजमर्रा का काम ज्यों का त्यों चलता रहा, बहुत अर्थपूर्ण है। यह रोजमर्रा का काम क्या था इसे समझना जरा भी मुश्किल नहीं है। यह काम था मुस्लिम लीग के कंधे से कंधा मिलाकर हिंदू और मुसलमान के बीच खाई को गहराते जाना।
अंग्रेजी राज के खिलाफ संघर्ष में जो भारतीय शहीद हुए उनके बारे में गुरुजी क्या राय रखते थे वह इस वक्तव्य से बहुत स्पष्ट है-
‘हमने बलिदान को महानता का सर्वोच्च बिंदु, जिसकी मनुष्य आकांक्षा करे नहीं माना है क्योंकि अंततः वह अपना उद्देश्य प्राप्त करने में असफल हुए और असफलता का अर्थ है कि उनमें कोई गंभीर त्रुटि थी।’
शायद यही कारण है कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का एक भी कार्यकर्ता अंग्रेज़ों के खिलाफ संघर्ष करते हुए शहीद नहीं हुआ। शहीद होने की बात तो दूर रही, आरएसएस के उस समय के नेताओं जैसे की गोलवलकर, दीनदयाल उपाध्याय, बलराज मधोक। लाल कृष्ण अडवाणी, के आर मलकानी या अन्य किसी आरएसएस सदस्य ने किसी भी तरह इस महँ मुक्ति आंदोलन में हिस्सा नहीं लिया कियोंकी आरएसएस सावरकर का पिछलग्गू बानी थी। 
भारत छोड़ो आंदोलन के 75 साल गुजरने के बाद भी कई महत्वपूर्ण सच्चाईयों से पर्दा उठना बाकी है। दमनकारी अंग्रेज शासक और उनके मुस्लिम लीगी प्यादों के बारे में तो सच्चाईयां जगजाहिर है लेकिन अगस्त क्रांति के वे गुनहगार जो अंग्रेजी सरकारी द्वारा चलाए गए दमन चक्र में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से शामिल थे अभी भी कठघरे में खड़े नहीं किए जा सके हैं। सबसे शर्मनाक बात तो यह है कि वे भारत पर राज कर रहे हैं। हिंदू राष्ट्रवादियों की इस भूमिका को जानना इसलिए भी जरूरी है ताकि आज उनके द्वारा एक प्रजातांत्रिक, धर्मनिरपेक्ष भारत के साथ जो खिलवाड़ किया जा रहा है उसके आने वाले गंभीर परिणामों को समझा जा सके।

शम्सुल इस्लाम
अगस्त 9, 2018
For some of S. Islam's writings in English, Hindi, Marathi, Malayalam, Kannada, Bengali, Punjabi, Urdu & Gujarati see the following link:
Facebook: shams shamsul
Twitter: @shamsforjustice